Saturday, June 11, 2011

Ohhh No..i Was In doubt till today

2 comments:

डॉ0 ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Dr. Zakir Ali 'Rajnish') said...

अमितजी,

आरज़ू चाँद सी निखर जाए,
जिंदगी रौशनी से भर जाए,
बारिशें हों वहाँ पे खुशियों की,
जिस तरफ आपकी नज़र जाए।
जन्‍मदिन की हार्दिक शुभकामनाएँ!
------
दूसरी धरती पर रहने चलेंगे?
उन्‍मुक्‍त चला जाता है ज्ञान पथिक कोई..

Trupti Kapoor said...

Ab...
:P